अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर “महिलाओं का सर्वांगीण विकास” विषय पर आयोजित कार्यक्रम (8 मार्च 2019)


ग्वालियर: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, महिला प्रभाग (राजयोग एज्युकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन) माधवगंज लश्कर ग्वालियर के द्वारा आज अंतरर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर “महिलाओं का सर्वांगीण विकास” विषय पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया | कार्यक्रम में मुख्य रूप से श्रीमती अनीता जैन (अध्यक्ष, प्रेरणा लोएंस क्लब), श्रीमती ज्योति छाबडिया (रेंजर, वन विभाग) डॉ. कीर्ती धोंडे, ब्रह्माकुमारी आदर्श दीदी (संचालिका ब्रह्माकुमारीज सेंटर), बी.के. ज्योति दीदी (वरिष्ठ राजयोग प्रशिक्षिका), आशा सिंह (समाज सेविका), बी. के. प्रह्लाद आदि उपस्थित थे| कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्वलित करके किया गया एवं कु. रिया ने नृत्य के द्वारा सभी का स्वागत किया | तत्पश्चात बी. के. ज्योति बहन ने संस्थान का परिचय देते हुये पिछले 8 दशक से की जा रही सेवाओं के बारे में बताते हुए कहा कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान एक ऐसा संस्थान है जो पूरे विश्व में बहनों के द्वारा संचालित होता है| यह नारी सशक्तिकरण का एक अनूठा उदहारण है |
इसके बाद संस्थान की संचालिका बी.के. आदर्श दीदी ने महिलाओं का सर्वांगीण विकास पर प्रकाश डालते हुए कहा कि –
नारी बहुमुखी प्रतिभा की धनी है| वह स्वयंसिद्धा है| नारी के विकास में सर्व का विकास समाया हुआ है| नारी में नर भी आ जाता है और इंग्लिश में woman में man भी आ जाता है तो नारी के विकास में सबका विकास है| इसलिए कहा जाता है की अगर एक नारी को शिक्षित किया तो सारे परिवार को शिक्षित किया, क्यूंकि नारी परिवार की भी धुरी है तो समाज की भी धुरी है तो विश्व की भी धुरी है| नारी का उत्थान विश्व का उत्थान है| नारी के पतन से विश्व का पतन है| यह एक अटल सत्य है और इस सत्य को हम स्वीकार करते हैं और हम नारी हैं तो हमारे ऊपर बहुत बड़ी जिम्मेवारी है| स्वयं का विकास कर समाज का विकास करना, देश का और फिर विश्व का करना |
साथ ही उन्होंने बताया कि 6 प्रकार का विकास हो सकता है
1. भौतिक विकास
2. मानसिक विकास
3. बौद्धिक विकास
4. भावनात्मक विकास
5. नैतिक विकास
6. अध्यात्मिक विकास
अगर एक भी कम है तो सर्वांगीण(holistic) नहीं कहेंगे whole में ये सब कुछ आ जाता है, लेकिन आज हम इन सर्व प्रकार के विकास पर ध्यान नहीं देते हैं| एक शरीर की सुन्दरता का भी विकास हम चाहते हैं साथ-साथ धन, मकान ज़मीन, बैंक बैलेंस आदि कई भौतिकों का विकास चाहते हैं| परन्तु यह विकास भी तभी सार्थक है जब अन्य विकास भी हमारे जीवन में है |
मानसिक विकास- का मतलब है हमारे ऊँचे विचार, अगर हमारे अन्दर नकारात्मक विचार है तो हम इस आधुनिक विकासशील युग में भी हम विकासशील अर्थात विकसित नहीं माने जायेंगे| इसलिए मानसिक विकास अगर हम चाहते हैं तो हर वक़्त पॉजिटिव एवं सकारात्मक सोचना होगा| हर पहलू में दो विपरीत बातें आ सकती है अब मुझे किस बात को स्वीकार करना है वह अपनी मानसिक शक्ति के आधार पर सोच सकते है | उसके लिए हमें अपनी मानसिक शक्ति का विकास करना होगा |
बौद्धिक विकास- बौद्धिक विकास के लिए हमारा IQ ऊँचा होना चाहिए क्यूंकि यदि हमारा IQ ऊँचा होगा हमें समाज का पूरा ज्ञान होगा, हम हर प्रकार से शिक्षित होंगे तो अवश्य ही इस बौद्धिक विकास से हम समाज में ऊँचा स्थान ले सकेंगे| इसलिए बौद्धिक विकास भी आवश्यक है| अतः हमारी सरकार भी यह कहती है कि “बेटी बचाओ-बेटी पढाओ” क्योकि पहले ज़माने में बेटियों को नहीं पढाया जाता था और अभी हम यह जो परिवर्तन देख रहे है यह बहुत अच्छी बात है, इस बदलाव से बेटियाँ भी आगे पढ़कर बहुत कुछ कर सकती हैं| हम देख भी रहें है कि लड़कों से लड़कियां इतने अच्छे नंबर ले लेती है तो ये उनके बौद्धिक विकास का ही प्रमाण है| बौद्धिक विकास होने से नारी का केवल विकास नहीं है बल्कि इस पूरे समाज का ही विकास है|
भावनात्मक विकास के बारे में बताते हुए कहा कि कई बार देखा जाता है की महिलाएं कमज़ोर पड़ जाती हैं और जहा भावनात्मक बात आती है तो नारी जल्दी पिघल जाती है तो वास्तव में हमें इससे भी मजबूत बनना चाहिए शारीरक रीति से मजबूती के लिए लडकियां कराटे एवं अन्य खेल में रूचि रखती हैं जिससे उनकी मसल पॉवर स्ट्रोंग हो लेकिन भावनात्मक विकास भी हमारा उतना ही श्रेष्ठ हो क्यूंकि कई परिस्थितियाँ हमारे सामने आती हैं और यदि हम भावुक होते हैं तो हम उनका सामना नहीं कर सकते इसलिए न ज्यादा भावुक बनें न ज्यादा कठोर बने परन्तु एक सुन्दर समन्वय, स्ट्रोंग भी बनना है, फ्लेक्सिबल भी बनना है| इसलिए बुद्धिमत्ता यही है हम हर परिस्थिति का सामना भी करे डरे भी नहीं, क्यूंकि नारी देवी का स्वरुप है| छुईमुई के पेड़ के समान कोमल इतना भी न बने की हाथ लगाने पर मुरझा कर झुक जाए| दबी हुई भावनाओं का प्रभाव हमारे शरीर पर भी पड़ता है क्यूंकि अन्दर दबाए रखा तो तनाव होगा तो इससे हमारे शरीर पर बुरा असर पड़ सकता है इसके लिए भावनात्मक रीति से अपने को बहुत मजबूत बनाना चाहिए |
नैतिक विकास के बारे में बताया कि कि हमारे जीवन में मूल्यों का विकास बहुत जरुरी है| यह नहीं की हम नैतिक मूल्यों को दरकिनार कर विकास के लिए जाएँ| आज दुनिया में हम देख रहे हैं कि लोग अपने मूल्यों को बेच कर धन कमाने में लगे हुए है| झूठ, छल, कपट, निन्दा आदि तरीके अपनाते हैं केवल धन कमाने के लिए अपने मूल्यों का ह्रास करते जा रहे हैं पर वो ये भूल जाते हैं की अगर हमने मूल्यों का ह्रास किया, सत्यता के मार्ग पर नहीं चले तो एक दिन ये झूठ खुल जाएगा| सत्य की नीव हिल सकती है लेकिन डूब नहीं सकती| अगर सचमुच नैतिक मूल्य है तो वो कभी भी हार नहीं खा सकता है | कभी भी उसका विकास न हो यह हो ही नहीं सकता क्यूंकि नैतिक मूल्य मनुष्य को बहुत आगे ले जा सकता हैं|
आध्यात्मिक विकास विकास तो बहुत ही ऊँचा है मानो हर पल हम यह महसूस करते हैं की हम परमात्मा की छत्रछाया में हैं| परमात्मा का हाथ हमारे सिर पर है| इसलिए किसी ने बहुत सुन्दर कहा है की ‘जाको राखे साईयां मार सके न कोए’| अगर भगवान् का साथ है तो मुझे कोई कुछ नहीं कर सकता| मनुष्य का हिसाब तब तक है जब तक हमारे कर्मो के हिसाब किताब है| जन्म जन्म का साथी तो केवल एक भगवान् ही है वो केवल एक परमात्मा है| जब मनुष्य परमात्मा को अपना साथी बनाएगा तो दुनिया की कोई भी परिस्थिति उसे रोक नहीं सकेंगे|
इस अवसर पर श्रीमती अनीता जैन ने अपनी शुभकामनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि परिवार में संतुलन बनाकर हमें आगे बढ़ना है | एवं श्रीमती ज्योति छाबडिया ने भी इस अवसर पर अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की |
कार्यक्रम के दौरान कु. रिया और कु. शक्ति के द्वारा नारी सशक्तिकरण पर बहुत सुन्दर मंचन भी किया गया | मंच संचालन बी. के. आशा सिंह ने किया एवं कार्यक्रम के अंत में आभार बी के प्रह्लाद भाई द्वारा किया गया |

आदर्श जीवन आध्यात्मिक प्रदर्शनी का भव्य शुभारंभ हुआ “श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेले में”

ग्वालियर: प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की स्थानीय शाखा द्वारा प्रत्येक वर्ष की भाँति इस वर्ष भी ग्वालियर व्यापार मेला में आने वाले सैलानियों के लिए आध्यात्मिक एवं सर्वांगीण व्यक्तित्व विकास के लिये, मेला के प्रदर्शनी सेक्टर में भव्य “आदर्श जीवन आध्यात्मिक प्रदर्शनी” का आयोजन किया गया है । जिसका विधिवत शुभारम्भ आज दिनांक 17 जनवरी को  मुख्य अतिथि के रूप में श्री जयदीप शाह जी (एकॉउंटेन्ट जनरल मध्य प्रदेश), विशिष्ट अतिथि के रूप में ग्वालियर मेला के सचिव श्री टी सी वर्मा जी, श्री आर एस तोमर जी प्रदर्शनी प्रभारी, श्री विजय पांडेय जी मेला मीडिया प्रभारी, श्री आनन्द मिश्रा जी की उपस्थिति में  सम्पन्न हुआ| इस मुबारक मौके पर सेवाकेंद्र संचालिका बी के आदर्श बहन, बी. के. प्रहलाद भाई, बी के डॉ गुरचरण सहित सैकड़ों भाई बहन मौजूद थे । इस प्रदर्शनी में अनेक चित्रों के माध्यम से स्वयं का परिचय, पिता परमात्मा का परिचय, समय का परिचय, कर्मों की गुह्य गति के साथ राजयोग का परिचय दिया जाएगा । साथ ही आध्यात्मिक क्रांति के अग्रदूत बच्चे, युवा विश्व की आश, स्वर्णिम संसार का आधार नारी, जैसे सुंदर स्लोगन एवं चित्रो के माध्यम से सुंदर प्रेरणा दायक संदेश दिया गया है प्रतिदिन भाई बहनें इस प्रदर्शनी में पधार कर निशुुल्क लाभ ले सकेंगे ।
बी के आदर्श बहन जी ने बताया कि वर्तमान समय में जबकि चहुँ ओर भय, निराशा, तनाव एवं विकारों से ग्रसित वातावरण है ऐसे समय में यह प्रदर्शनी भाई बहनों के लिए एक वरदान सिद्ध होने वाली है । जिसमें समाज के विभिन्न आयु वर्ग और सभी धर्म विशेष की आत्माओं के लिए प्रदर्शनी में सुन्दर चित्रों के माध्यम से सन्देश दिया जाएगा । आज के व्यस्ततम जीवन में सुख शान्ति सम्पन्नता की अनुभूति करने में संस्थान का ये अनूठा प्रयास रहेगा, संस्थान के विभिन्न प्रभागों के द्वारा अनेक प्रकार की होने वाली अनेक सेवाओं में से एक ये छोटा सा प्रयास है, इसी के साथ ही दीदी जी ने सभी को मेडिटेशन भी कराया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पधारे हुए श्री जयदीप शाह जी ने अपनी शुभभावनाएँ देते हुए कहा कि संस्थान समाज की बहुत ही विशेष सेवाओं में संलग्न है । उन्होंने प्रदर्शनी का अवलोकन करने के बाद कहा कि इस प्रदर्शनी में जो विशेष रूप से बच्चों, महिलाओं एवं युवाओं के लिए जो मार्गदर्शन दिया जा रहा है वो बेहद ही सराहनीय है । आज के समय जो मात पिता और बच्चों के बीच की जो दूरी है वो साइंस के अनेक साधनों के कारण बढ़ती जा रही है । इसका समाधान राजयोग ही है।
मेला सचिव श्री टी सी वर्मा जी ने अपनी शुभकानाएं देते हुए कहा कि संस्थान द्वारा जो राजयोग की शिक्षाएं दी जा रही हैं वो बहुत ही उल्लेखनीय है एवं उसे जन जन तक पहुचाना हम सभी का कर्तव्य है| मंच संचालन बी.के. डॉ. गुरुचरण भाई ने किया तथा कार्यक्रम के अंत मे बी.के. प्रहलाद ने सभी का आभार ब्यक्त किया।

“स्वच्छ ग्वालियर” के लिए एक विशाल पैदल जागरूकता रैली”

ग्वालियर: प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय एवं नगर निगम ग्वालियर के सयुंक्त तत्वाधान में एक विशाल पैदल स्वच्छता जागरूकता रैली का आयोजन किया गया जिसको हरी झंडी नगर निगम से शिशिर श्रीवास्तव, बी. के. गुप्ता, अनिल उपाध्याय एवं ब्रह्माकुमारीज संस्थान से ब्रह्माकुमारी आदर्श दीदी जी, ब्रह्माकुमार प्रहलाद ने दिखाकर प्रारंभ किया |

रैली का जगह जगह स्वागत हुआ | इस रैली का उद्देश्य “ जन जागरण को स्वच्छता के प्रति जागरूक करना था” कि जिस तरह से लोग अपने घरों के अन्दर सफाई रखते है ठीक उसी प्रकार घर के बाहर व दुकान के बाहर भी सफाई रखें तो निश्चित ही हम ग्वालियर को शहर को स्वच्छता में नंबर वन बना सकेंगे I रैली में भिन्न भिन्न स्लोगन के माध्यम से सभी को सन्देश दिया गया |

“उज्जवल भारत का सपना, स्वच्छ भारत हो अपना”

“स्वच्छता को अपनाना है गन्दगी को दूर भगाना है”

“हम सबका एक ही नारा स्वच्छ और सुन्दर हो शहर हमारा”

“हम सबने यह थाना है ग्वालियर को स्वच्छ बनाना है”

“मेरा शहर साफ हो हम सबका इसमें हाथ हो”

“आओ आगे कदम बढ़ाये स्वच्छता से हाथ मिलाये”

“गली गली में जायेंगे स्वच्छता कि अलख जगायेंगे”

“घर घर में जाना है स्वच्छता का सन्देश पहुँचाना”

आदि आदि ………….

रैली ब्रह्माकुमारीज संस्थान माधवगंज से प्रारंभ होकर माधवगंज थाना, आंगरे कॉलोनी, तारागंजपुल, ढोलीबुआ का पुल, कमानी पुल, हनुमान चौराहा, जनकगंज, गाँधी मार्केट चौराहा होते हुए महाराज बाड़े पर पहुंची वहां एक सभा का आयोजन हुआ जिसमे मुख्य रूप से श्री देवेन्द्र सुन्दरयाल जी (उप आयुक्त न. नि. गवा.), गिरीश शर्मा स्वच्छता ब्रांड अम्बेसडर, ब्रह्माकुमारी आदर्श दीदी जी, ब्रह्माकुमार प्रह्लाद, श्री शैलेश अवस्थी (नोडल ऑफिसर), सबा रहमान उपस्थित रही |

राजयोगिनी बी.के. आदर्श दीदी ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि स्वच्छता हमारी सोच में होगी तो बाहर भी हम स्वच्छता को बनाकर रखेंगे I स्वच्छता में हमारे जीवन के कई महत्वपूर्ण राज छिपे हुए हैं आज मानव के विचार दूषित होने के कारण चारों और गन्दगी ही गन्दगी बढती जा रही है, यदि हम संकल्प लें कि अपने मन के विचारों को स्वच्छ व पवित्र बनाकर अपने घर आँगन के साथ गली मोहल्ला व कॉलोनी को साफ़ रखेंगे I और प्रत्येक व्यक्ति 21 व्यक्तियों को तथा वह 21 व्यक्ति अलग 21 व्यक्तियों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने का संकल्प लेI हम सिर्फ दूसरो को देखते है उनपर दोषारोपण करते है अपने पर ध्यान नहीं देते जबकि यदि हम अपने आसपास सफाई रखेंगे तो दूसरे भी अपने आप हमको मदद करेंगे | हम सर्वप्रथम अपने घर से या अपनी दुकान से स्वच्छता कि शुरुआत करें कोशिश करे हम खुद कूड़ा कचड़ा सड़कों पर न फेंके और अपने परिवार जन और मित्र सम्बन्धियों को भी इसके प्रति जागरूक करें तो हम निश्चित ही इस स्वच्छता मिशन के लक्ष्य को शीघ्र ही प्राप्त कर सकेंगे I

उपायुक्त एवं नोडल अधिकारी स्वच्छता मिशन देवेन्द्र सुंदरियाल ने संबोधित करते हुए कहा कि दुनिया के सभी धर्म कहते है कि सभी साफ़ स्वच्छ रहें तथा अपने आसपास स्वच्छता रखें और अपने विचारों को स्वच्छ रखें I इसलिए हम किसी भी धर्म को मानने वाले हों हमे स्वच्छता के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी के साथ करना चाहिए I

कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारीज के सैकड़ो भाई एवं बहनों सहित नगर निगम जोनल ऑफिसर श्री भदौरिया जी, श्री राकेश कुशवाहा एवं अन्य नगर निगम के अधिकारी भी मौजूद रहे साथ ही सुनील खरे (स्वच्छता पर्वेक्षक), कमल, प्रेम सहित अनेकानेक सफाई दूत भाई भी शामिल रहे |

कार्यक्रम के अंत में सभी को बी. के. प्रहलाद भाई द्वारा स्वच्छता की शपथ दिलाई गई |

 

 

बसंत विहार कॉलोनी ग्वालियर में “मेडिटेशन” विषय पर कार्यक्रम का आयोजन

बसंत विहार कॉलोनी ग्वालियर में “मेडिटेशन” विषय पर कार्यक्रम में सभी को मैडिटेशन कि गहन अनुभूति कराने के पश्चात ग्रुप फोटो में आदरणीया राजयोगिनी ब्रह्माकुमारी आदर्श दीदी जी, बी.के. प्रह्लाद भाई , श्रीमती अनीता बाधवानी जी एवं उनके संबंधीजन |

“बानमोर हेवी इलैक्ट्रिकल लिमिटेड इंडस्ट्री में अधिकारियों एवं वर्कर्स के लिए तनाव प्रबंधन विषय पर कार्यक्रम का आयोजन”

कार्यक्रम में सभी को संबोधित करते हुए बी.के.प्रहलाद भाई (मोटिवेशनल ट्रेनर) एवं साथ में श्री निर्मल जैन (Managing director BHEL), श्रीमती संगीता जैन (Director BHEL), श्री गौरव जैन (Associate Director)

“अदभुत मातृत्व संवाद” Org. by Gwalior Obstetrics & Gynaecological Society And Public Awareness Commmitee FOGSI

“Gwalior obstetrics & Gynaecological Society” and “Public Awareness Committee FOGSI” की तरफ से होटल लैंडमार्क NX में ग्वालियर में एक “ अद्भुत मातृत्व संवाद ” कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें ग्वालियर शहर की लगभग सभी Gyanecologist डॉक्टर बहनों ने भाग लिया | जिसको संबोधित करने के लिए FOGSI की राष्ट्रीय अध्यक्षा जयदीप मल्होत्रा जी भी पहुँची | कार्यक्रम में डॉ कुसुम सिंघल (FOGSI अध्यक्ष ग्वालियर ), डॉ वीरा लोहिया (FOGSI सेक्रेटरी ग्वालियर), उपस्थित थी साथ ही ब्रह्माकुमारीज लश्कर ग्वालियर की संचालिका आदरणीया ब्रह्माकुमारी आदर्श दीदी जी को भी आमंत्रित किया जिसमें उन्होंने सभी को संस्थान द्वारा दी जा रही श्रेष्ठ शिक्षाओं के बारे में बताया और साथ ही दैवीय गर्भ संस्कार के बारे में भी बताया तथा कार्यक्रम के अंत में सभी को दीदीजी के द्वारा मैडिटेशन की अनुभूति भी कराया गया | कायर्क्रम में डॉ. ब्रजेश सिंघल सहित अनेकानेक चिकित्सा फील्ड से जुड़े भाई एवं बहनें मौजूद थे |

नि:शुल्क चिकित्सा परामर्श शिविर में सैकड़ों लोगों ने लिया लाभ

ब्रह्माकुमारीज ग्वालियर द्वारा आयोजित नि:शुल्क चिकित्सा परामर्श शिविर में सैकड़ों लोगों ने लिया लाभ
ब्रह्माकुमारीज ग्वालियर द्वारा नि:शुल्क चिकित्सा परामर्श एवं दवाईयाँ वितरण शिविर का आयोजन किया गया I इस शिविर में लगभग 200 मरीजों ने लाभ लिया जिसमे चिकित्सा परामर्श के साथ-साथ नि:शुल्क दवाईयाँ भी वितरित की गयी I परामर्श देने के लिए गौड़ नर्सिंग होम से डॉ. पुखराज गौड़(हड्डी एवं जोड़ रोग विशेषज्ञ) तथा माँ कनकेश्वरी हॉस्पिटल से डॉ. निर्मला कंचन (स्त्री रोग विशेषज्ञ) उपस्थित थी I वहीं शिविर में जुगल गुप्ता, राजेंद्र कुमार मंगल ,मदन मोहन गुप्ता ने अपने सहयोग से दवाईयाँ वितरित की I इस अवसर पर ब्रह्माकुमारीज लश्कर सेवाकेंद्र संचालिका बीके आदर्श दीदी ने सभी को इस कैंप के लिए अपनी शुभकामनायें दीं और बताया कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान भगनी संस्था राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन के मेडिकल विंग द्वारा हर महीने यह नि:शुल्क कैंप लगाया जा रहा है जिससे कि अनेकानेक लोग शिविर के माध्यम से अपने स्वास्थ्य को ठीक रख सकेंI क्योकि आज हर व्यक्ति की दिनचर्या अस्त व्यस्त है जिसकी वजह से अनेकानेक बीमारियों का सामना लोगो को करना पड़ रहा है | यदि हर व्यक्ति सुबह जल्दी जागे मैडिटेशन करे, व्यायाम करे, सात्विक भोजन करे तो वह अधिक समय तक स्वस्थ्य रह सकता है | फिर भी यदि कोई किसी कारण से अस्वस्थ्य होता है तो समय प्रति समय डॉक्टर कि सलाह लेते रहे जो लोग किसी भी कारण से डॉक्टर से सलाह नहीं ले पाते है तो उनके लिए संस्थान के द्वारा प्रति माह अलग अलग फील्ड में विशेषज्ञ डॉक्टर के सहयोग से माधवगंज सेंटर में कैंप लगाये जा रहे है उसका लाभ शहर का कोई भी व्यक्ति ले सकता है |

आध्यात्मिक कवि सम्मेलन

ब्रह्माकुमारीज द्वारा आयोजित “आध्यात्मिक कवि सम्मेलन”
ब्रह्माकुमारीज ग्वालियर के स्थानीय सेवा केंद्र माधवगंज में आध्यात्मिक कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया I जिसमे शहर की कई कवियत्रियों ने भाग लिया कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन एवं पुष्प मालाओं से सभी का स्वागत करके किया गया | इसके तत्पश्चात ब्रह्माकुमारीज सेवाकेंद्र संचालिका आदर्श दीदी ने कार्यक्रम में पधारी शहर कि सभी कवियत्रियों का श्रीफल एवं शौल ओढाकर सम्मान किया | कवियत्रियों में डॉ. मुक्ता सिकरवार, डॉ. भारती पुजारी, कादम्बरी आर्य, जेवा राणा, प्रतिभा द्वेदी, संगीता गुप्ता आदि उपस्थित थी| सभी ने बारी बारी आध्यात्मिक काव्य पाठ किया |
कार्यक्रम का कुशल संचालन आशा सिंह द्वारा किया गया | कार्यक्रम में संस्थान कि ओर से बी.के. ज्योति बहन , बी.के. लता बहन, बी.के. सीमा आदि | श्रोताओं में एस. आर. पवार, बी. एम् सोनी धर्मेन्द्र जोशी, ब्रजेन्द्र कुशवाह संजय सहित सैकड़ों श्रोताओं ने आध्यात्मिक कवि सम्मेलन का आनंद लिया |
कार्यक्रम के अंत में सभी का आभार बी.के. प्रहलाद भाई द्वारा किया गया |