ग्वालियर: “प्रतीक इंस्टीट्यूट ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी” ग्वालियर द्वारा आयोजित “ड्रीम बिग एंड एचीव बिग”

ग्वालियर: “प्रतीक इंस्टीट्यूट ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी” ग्वालियर द्वारा आयोजित “ड्रीम बिग एंड एचीव बिग” नामक एक स्वउन्नति के लिए प्रेरणादायी कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मोटिवेशनल स्पीकर बी के प्रहलाद भाई को आमंत्रित किया गया| इस कार्यक्रम में बी.के. प्रह्लाद भाई जी ने अपने बहुमूल्य विचार रखते हुए छात्रों को पिता परमात्मा का दिव्य परिचय दिया| उन्होंने कहा कि पिता परमात्मा की याद और उनका साथ हमारे द्रढ़ता संपन्न विचारों को शक्ति प्रदान करता है, जिससे हम अपने लक्ष्य की ओर तेजी से बढ़ सकते हैं | हमें सदा अपने लक्ष्य की ओर ही ध्यान रखना है न की राह में आने वाली अडचनों को देखना है | क्यूंकि इतिहास गवाह है जिन्होनें ने भी बड़े बड़े काम किये हैं उन्हें कभी भी अनुकूल वातावरण नहीं मिला है, बल्कि उन्होंने भी प्रतिकूल वातावरण में अपने आप को सिद्ध किया है |

जितनी अच्छी हमारी सोच होगी उतना ही हम अपने लक्ष्य को आशानी से हांसिल कर सकते है जीवन में तीन रास्ते हमारे पास है एक रास्ता कमजोरी का रास्ता है डर का रास्ता है जो हमें कुछ भी करने से रोकता है हम सफल होंगे या नहीं इस तरह की बातें हमें मंजिल तक जाने से रोकती है| एक दूसरा रास्ता है, जहाँ कुछ लोग जल्दी सफलता पाने के लालच से बिना मेहनत के दूसरों को धोखा देकर अपने मानवीय मूल्यों को छोड़कर लोगो के साथ चीटिंग करके आगे बढ़ने की कोशिश करते है लेकिन मंजिल तक नहीं पहुँच पाते और इन दौनों के बीच एक तीसरा रास्ता है, जो सीधा मंजिल तक जाता है जिस तक पहुँचने के लिए हमें मेहनत, लगन और ईमानदारी के साथ कार्य करते हुए परमात्मा की स्मृति को अपनी बुद्धि में रखना होगा तो हम सहज ही वहाँ पहुँच सकते है जहाँ हम पहुंचना चाहते है अब आपको चुनना है हमें किस रास्ते पर चलना है | इसके साथ ही आगे बढनें के अनेकानेक टिप्स भी दिए|

इस अवसर पर इंस्टीट्यूट के निदेशक श्री मनोज चौरसिया जी ने कार्यक्रम के आरम्भ में ब्रह्माकुमारीज संस्थान से आये हुए बी. के. प्रह्लाद भाई का पुष्प मालाओं से स्वागत किया एवं सभी को अपनी शुभकामनाएं भी दी |

इसके साथ ही कार्यक्रम के अंत में बी.के. प्रह्लाद भाई ने सभी को ब्रह्माकुमारीज संस्थान का विस्तार से परिचय देते हुए राजयोग ध्यान का भी अभ्यास कराया|