News

भारतीयम विद्या स्कूल में “हम सच्चे और अच्छे कैसे बनें ” विषय पर कार्यक्रम आयोजित

कार्यक्रम में मोटिवेशनल स्पीकर बी. के. प्रह्लाद भाई ने सभी को सम्बोधित करते हुए बताया कि एक सच्चा और अच्छा व्यक्तित्व आपको भीड़ से अलग करता है आपको हर जगह सम्मान दिलाता है और जीवन में ऊंचाइयों तक ले जाता है| और एक सच्चे और अच्छे  इंसान आप तभी बन सकते हैं जब आपका व्यवहार और प्रत्येक कर्म सच्चाई और अच्छाई से युक्त होगा| जैसा कि हम सभी जानते हैं Honesty is the best policy | अत: हम सभी को अपना प्रत्येक कार्य ईमानदारी के साथ करना चाहिए और विद्यार्थी जीवन में हमारा एक ही सबसे महत्वपूर्ण कार्य होता है वह है ‘पढ़ाई’ | जो कि आधार है हमारे श्रेष्ठ व सफल भविष्य का हमारे तय लक्ष्य को प्राप्त करने का| तो हम सभी को स्वयं से पूछना चाहिए कि हम अपने इस कार्य को कितनी ईमानदारी और लगन के साथ कर रहे हैं| कितना हम स्वयं में नैतिक मूल्यों व अच्छाइयों को धारण कर रहे हैं क्यों कि यह आधार है हमारे श्रेष्ठ चरित्र का जो कि हमारे कार्य, व्यवहार व हमारे विचारों से जीवन की परिस्थितियों में प्रतिबिंबित होते हैं| जिन्हें रोपित करने का श्रेष्ठ समय यह विद्यार्थी जीवन ही है|

साथ ही उन्होंने परीक्षा के डर से निपटने के लिए कुछ टिप्स भी शेयर किये| और बच्चों को इस समय होने वाली परेशानियों के लिए मार्गदर्शन भी दिया|

और उन्होंने एक सच्चे और अच्छे बच्चे की कुछ विशेषताएं सभी को बताई

  • वह अपने माता -पिता शिक्षक व बड़ों की आज्ञा का पालन करते हैं| तथा छोटों से स्नेह युक्त व्यवहार करते हैं|
  • वह व्यर्थ से मुक्त रहते हैं|
  • वह सभी का सम्मान करते हैं| किसी से लड़ाई झगड़ा नहीं करते हैं|
  • वह बुरी आदतों व बुरे संग से दूर रहते हैं|
  • वह अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्र रहते हैं|
  • वह जल्दी सोते हैं जल्दी उठते हैं उनकी दिनचर्या व्यवस्थित होती है|

 

अंत में उन्होंने सभी को मैडिटेशन करवाया साथ ही सभी बच्चो को अपनी दिनचर्या में नियमित रूप से मैडिटेशन करने के लिए भी जोर दिया|

इस अवसर पर डायरेक्टर डॉ. एस. पी. बत्रा, स्कूल की प्रिंसिपल सृष्टि राठौर , स्कूल टीचर्स सहित अनेकानेक विद्यार्थी उपस्थित थे|